Daily New Post About Trendy Topics

Ads

Breaking

5/27/17

थॉमस अल्वा एडिसन के विचार , थॉमस अल्वा एडिसन के कुछ शानदार विचार हिंदी में !

नमस्कार दोस्तों ...


                            तो कैसे  है आप , उम्मीद है अच्छे ही होंगे !   आज के हमारे इस ANGELA  में हम आपको बताएँगे एक शानदार , विद्वान और गजब  के व्यक्ति के बारे में  और वो  गजब का व्यक्ति है,
महान वैज्ञानिक  तथा  व्यापारी THOMAS ALVA EDISON.

मै यहाँ आपको उनसे जुडी हुई कुछ महत्वपूर्ण बाते तथा उनसे जुड़ा हुआ MOTIVATION बताऊंगा की आखिर वे इतने बड़े वैज्ञानिक तथा व्यापारी कैसे  बने !
thomas alva edison -
Thomas Alva Edison 



और हाँ अगर आपको THOMAS ALVA EDISON का पूरा जीवन परिचय चाहिए तो आप WIKIPEDIA पर जा सकते है वहा आपको यह  मिल जाएगी !

तो चलिए शुरु  करते है 
 THOMAS ALVA EDISON  का जन्म  11 फ़रवरी 1847 को अमेरिका में हुआ था I इनके माता पिता सामान्य परिवार से ताल्लुकात रखते थे I बचपन से ही THOMAS  सबसे अलग रहते थे वे हमेशा शांत -शांत ,खामोश  से रहते थे 
उनका मन हमेशा विज्ञान से जुडी चीजो में लगा रहता था उन्हें बचपन में सभी लोग  बुद्धू  बुलाते  थे !
पर उन्होंने सबको गलत साबित करके नये नये आविष्कार  किये 
उनके आविष्कारो की लिस्ट में सबसे फेमस था इलेक्ट्रिक बल्ब !


दोस्तों क्या  आपको पता है इस महान वैज्ञानिक के पीछे किस स्त्री का हाथ  था ?  इनकी माँ का !


जी हाँ दोस्तों  ,

                           अगर एक तरीके से देखा जाये तो THOMAS  की सफलता का राज थी उनकी माँ , आप पूछेंगे कैसे 

तो हुआ कुछ यु था 


एक दिन नन्हा टॉम (उनकी माँ उन्हें इसी नाम से बुलाती थी ) बड़ी ही तेजी से भागते हुए अपने माँ के पास आया और बोला माँ मेरे पास एक खत है ,

उनकी माँ ने वो खत  उनसे लिया और पड़ा तो उनकी आखे नम हो आई 
जब टॉम ने उनसे पूछा की माँ उस खत में क्या लिखा है तो उनकी माँ बोली की इसमें लिखा है की आपका टॉम सबसे होशियार बच्चा है और हमारा स्कूल छोटा है इसलिए अबसे आप उन्हें घर पर हि पढाए !

कुछ देर के लिए तो टॉम को विश्वास नहीं हुआ पर उन्हें पता था माँ कभी झूट नहीं बोलती इसलिए उन्हें इसका विश्वास हो  गया !

 तब वे बहुत खुश  हुए !

और कई साल बाद जब थॉमस अल्वा एडिसन एक महान वैज्ञानिक के रूप में प्रसिद्ध हो चुके थे तथा उनकी माँ की भी मृत्यु हो चुकी थी,


                                                                                तब एक दिन उन्होंने खाली   समय में अपनी अलमारी की सफाई करी तो उन्हें एक कागज मिला उसे देखते ही उन्हें वो सारी  बाते याद आ गयी ,पर जब उन्होंने कागज खोला  और पड़ा तो उनकी भी आँखे मन हो गई उसमे लिखा था की आपका बच्चा मानसिक रूप से बहोत कमजोर है हम उसे अपने स्कूल से निकाल  रहे है !


उन भीगी हुई आखो में एक अलग ही हर्ष था उस रात उन्होंने अपनी डायरी में लिखा की एक माँ ने एक मानसिक रूप से कमजोर बच्चे को सदी का सबसे बड़ा वैज्ञानिक बना दिया !

तो दोस्तों एक माँ ने अपने बेटे को एक महान वैज्ञानिक बना दिया !
  THOMAS ALVA EDISON के मात्र US में लगभग 1093 पेटेंट अपने नाम  करवाए है  मुझे नहीं लगता की कोई भी वैज्ञानिक ने अबतक इतने आविष्कार किये हो,
                             उन्होंने इसके लिए बहुत मेहनत की, उनका मानना था "प्रतिभा एक प्रतिशत प्रेरणा और निन्यानवे प्रतिशत पसीना होता है !"

उन्हें स्कूल से निकालने के बाद उन्होंने अपनी  माँ की मदद से घर पर ही एक प्रयोगशाला खोली , पर प्रयोगशाला को चलाने और सामान आदि लाने  के लिए उन्हें आवश्यकता थी पैसो की ,

                                                        अब वो सोच में पड गए की  आखिर पैसो की व्यवस्था कहा से हो, पैसो की पूर्ति के लिए अल्प वर्ष की आयु में ही वे रेलवे स्टेशन के पास फल व अन्य सामान बेचने लगे  !
 तथा जो खाली समय बचता था उसका उपयोग वे अपनी प्रयोगशाला में अपने प्रयोगों पर करने लगे ! उनकी मेहनत रंग लायी उन्होंने बहुत ही छोटे समय अंतराल के बाद कई अविष्कार कर लिए थे, उनका पहला अविष्कार सन 1969  में हुआ था जो एक विद्दुत मतदानगणक था !

तो दोस्तों अब मै आपको उनके  कुछ  मशहूर thought (विचार )बताऊंगा इन्ही में उनके वैज्ञानिक तथा व्यापारी बनने के सारे गुण निहित है अगर आप उनके जैसा बनना चाहते है तो ये बाते अपने मान मस्तिस्क में बता लीजिये !



FAMOUS AND GREAT THOUGHTS OF THOMAS ALVA EDISON :-


  • हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हर मान लेना है !सफल होने का सबसे निश्चित तरीका है हमेशा एक और बार प्रयाश करना !

  •  जीवन में  अनेक विफलताए केवल इसलिए होती है क्योकि लोगो को यह आभास नहीं होता की जब उन्होंने प्रयाश बंद कर दिए तो उस समय वह सफलता के कितने करीब थे!

  •  शरीर का मुख्य कार्य मस्तिष्क को इधर उधर ले जाना है!


  •  आविष्कार करने के लिए आपको एक अच्छी कल्पना और कबाड़ के ढेर की जरुरत होती है !


  • हमेशा एक बेहतर तरीका होता है !  


  • जब मैं पूरी तरह से तय कर लेता हु की कोई परिणाम प्राप्त करने योग्य है तो मै आगे बढता हु और परिक्षण पर परिक्षण करते चला जाता हु जब तक की वो आ ना जाये ! 
  •    मैंने कुछ भी दुर्घटनावश नहीं किया न ही मेरे कोई अविष्कार दुर्घटना की वजह से हुए वे कम द्वारा आये है !


  • कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नही है!


  • मै असफल नहीं हुआ हूँ !मैंने बस 10000  इसे तरीके खोज लिए है जो कम नहीं करते है!



  • जितनी काबिलियत है उससे कही अधिक अवसर है !


  • प्रतिभा एक प्रतिशत प्रेरणा और निन्यानवे प्रतिशत पसीना होता है !


  • ये समस्या ,एक बार समाधान मिलने के बाद सरल हो जायेगी !



  • मै वहा से सुरु करता हूँ जहा से आखिरी व्यक्ति ने छोड़ा था !


  • आप जो है वो आपके कम में दिखेगा !


  • असंतोष प्रगति की पहली आवश्यकता है !



  • कार्यान्वयन बिना विज़न भ्रम है !


  • अहिंसा उच्चतम नैतिकता तक ले जाती है ,जो की क्रमिक विकाश का लक्ष्य है! जब तक हम सभी जीवित प्राणियों को नुकसान पहुचना नहीं छोडते ,तब हाम जंगली है !


  • यदि हम हर वो चीज कर दे जिसके प्रति हम सक्षम है ,तो सचमुच हम खुद को चकित कर देंगे !



  • अगर हम अपने सामर्थ्य अनुसार कर्म करे ,तो हम अपने आप को अचंभित कर डालेंगे!


  • जब आपने सभी संभावनाओ को समाप्त कर दिया है , तब याद रखिये आपने नहीं किया !



  • हम बिजली को इतना सस्ता बना देंगे की केवल आमिर ही मोमबत्तिया जलाएंगे !


  • बस इसलिए की कोई चीज वो नहीं करती जिसके लिए आपने उसे बनाया था ,उसका ये मतलब नहीं की वो बेकार है !


  • कुछ भी उपयुक्त हासिल करने के लिए तीन महत्वपूर्ण चीजे है ,कड़ी मेहनत ,द्रड़ता और कॉमन सेन्स !



  • प्रकर्ति वास्तव में अद्भुत है ! केवल इन्सान वास्तव में बेईमान है ! 
  •   आपकी कीमत इसमें है कि आप क्या है इसमें नही की आपके पास क्या है !
                            और दोस्तों मेरे पसंदीदा  ...
  • मै ये पता कर लेता हु कि दुनिया को क्या चाहिए ! फिर मै आगे बढता हूं और उसका अविष्कार करने का प्रयास करता हूँ !


  • एक शानदार आइडिया चाहते होतो ढेर सरे आइडियाज़ सोचो!


  • कोई भी चीज़ जो बीके ना, मै उसका अविष्कार नहीं करना चाहूँगा ! उसका बिकना उपयोगिता का प्रमाण है ,और उपयोगिता सफलता का !


  • किसी विचार का मूल्य उसके उपयोग में निहित है !

         

थॉमस अल्वा एडिसन ने अपने जीवन में कई तकलीफों के बावजूद एक मुकाम हासिल किया है , इसका राज है उनकी सोच ....


वो हमेशा पॉजिटिव ही सोचा करते थे तब भी जब वे ज्यादा विकत स्तिथि में हो !


अगर मै आपसे पुछु की अगर आपको खब मिले की आपकी कंपनी आग में जल गयी तो आपकी प्रतिक्रिया क्या होगी ! आप जरुर हडबडा के डिप्रेस हो जाये !

पर जब थॉमस की कंपनी जल रही थी वो मुस्कुरा रहे थे ,
जब उनके साथी ने पूछा  की आपकी कंपनी जल रही है और आप मुस्कुरा रहे है तब उन्होंने कहा की ये मै शुरुआत की निशानी है 
और हुआ भी ऐसा  ही 1-2 हफ्ते के अन्दर ही उन्होंने ग्रामोफोन का अविष्कार किया  !

ये उनकी सोच का ही कमाल था , क्या शानदार सोच थी उनकी !





उनके जीवन में उन्होंने बहुत मेहनत की  पर वे कहते थे की

मैंने एक भी दिन काम  नही किया ये सब तो मनोरंजन था !
THOMAS ALVA"S SIGN
थॉमस अलवा के हस्ताक्षर 

 उनकी मृत्यु 18 अक्टूबर 1931 में हुई थी !
उनके सम्मान में उस समय पुरे US की बिजली दो मिनट के लीये बंद कर दी गई थी !

तो दोस्तों ये थी छोटी मगर अहम् कहानी व thought थॉमस अल्वा एडिसन के !

पड़ते रहिये , सीखते रहिये !

आपका मूल्यवान समय देने के लिए धन्यवाद  


दोस्तों अब आपसे मुलाकात होगी अगले ब्लॉग पर जल्दी ही .......


आप पड़ रहे थे SWAPN BLOGS




No comments: